Shiv Chalisa in Hindi | शिव चालीसा – शिव भक्तों के लिए

Shiv Chalisa in Hindi | शिव चालीसा हिंदी में – अगर आप मोबाइल, टेबलेट या डेस्कटॉप के माध्यम से शिव चालीसा का ऑनलाइन पाठ करना चाहतें हैं तो यह बेस्ट साईट है.

शिव चालीसा का पाठ करना महादेव शिव की आराधना करने का एक बहुत ही उत्तम माध्यम है.

आप सम्पूर्ण श्रद्धा और भक्तिपूर्वक श्री शिव चालीसा का पाठ करें.

हनुमान जी भगवान शिव के ही रूद्र अवतार है. हनुमान जी की आराधना के लिए Hanuman Chalisa with Meaning | सम्पूर्ण हनुमान चालीसा अर्थ के साथ का पाठ करें.

Shiv Chalisa in Hindi शिव चालीसा हिंदी में

Shiv Chalisa in Hindi
Shiv

|| श्री शिव चालीसा ||

॥ दोहा ॥

जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल मूल सुजान ।
कहत अयोध्यादास तुम, देहु अभय वरदान ॥

॥ चौपाई ॥

जय गिरिजा पति दीन दयाला ।
सदा करत सन्तन प्रतिपाला ॥

भाल चन्द्रमा सोहत नीके ।
कानन कुण्डल नागफनी के॥

अंग गौर शिर गंग बहाये ।
मुण्डमाल तन क्षार लगाए ॥

वस्त्र खाल बाघम्बर सोहे ।
छवि को देखि नाग मन मोहे ॥

मैना मातु की हवे दुलारी ।
बाम अंग सोहत छवि न्यारी ॥

कर त्रिशूल सोहत छवि भारी ।
करत सदा शत्रुन क्षयकारी ॥

नन्दि गणेश सोहै तहँ कैसे ।
सागर मध्य कमल हैं जैसे॥

कार्तिक श्याम और गणराऊ ।
या छवि को कहि जात न काऊ ॥

देवन जबहीं जाय पुकारा ।
तब ही दुख प्रभु आप निवारा ॥

किया उपद्रव तारक भारी ।
देवन सब मिलि तुमहिं जुहारी ॥

तुरत षडानन आप पठायउ ।
लवनिमेष महँ मारि गिरायउ ॥

आप जलंधर असुर संहारा।
सुयश तुम्हार विदित संसारा ॥

त्रिपुरासुर सन युद्ध मचाई ।
सबहिं कृपा कर लीन बचाई ॥

किया तपहिं भागीरथ भारी ।
पुरब प्रतिज्ञा तासु पुरारी ॥

दानिन महँ तुम सम कोउ नाहीं ।
सेवक स्तुति करत सदाहीं ॥

वेद माहि महिमा तुम गाई ।
अकथ अनादि भेद नहिं पाई ॥

प्रकटी उदधि मंथन में ज्वाला ।
जरत सुरासुर भए विहाला ॥

कीन्ही दया तहं करी सहाई ।
नीलकण्ठ तब नाम कहाई ॥

पूजन रामचन्द्र जब कीन्हा ।
जीत के लंक विभीषण दीन्हा ॥

सहस कमल में हो रहे धारी ।
कीन्ह परीक्षा तबहिं पुरारी ॥

एक कमल प्रभु राखेउ जोई ।
कमल नयन पूजन चहं सोई ॥

कठिन भक्ति देखी प्रभु शंकर ।
भए प्रसन्न दिए इच्छित वर ॥

जय जय जय अनन्त अविनाशी ।
करत कृपा सब के घटवासी ॥

दुष्ट सकल नित मोहि सतावै ।
भ्रमत रहौं मोहि चैन न आवै ॥

त्राहि त्राहि मैं नाथ पुकारो ।
येहि अवसर मोहि आन उबारो ॥

लै त्रिशूल शत्रुन को मारो ।
संकट ते मोहि आन उबारो ॥

मात-पिता भ्राता सब होई ।
संकट में पूछत नहिं कोई ॥

स्वामी एक है आस तुम्हारी ।
आय हरहु मम संकट भारी ॥

धन निर्धन को देत सदा हीं ।
जो कोई जांचे सो फल पाहीं ॥

अस्तुति केहि विधि करैं तुम्हारी ।
क्षमहु नाथ अब चूक हमारी ॥

शंकर हो संकट के नाशन ।
मंगल कारण विघ्न विनाशन ॥

योगी यति मुनि ध्यान लगावैं ।
शारद नारद शीश नवावैं ॥

नमो नमो जय नमः शिवाय ।
सुर ब्रह्मादिक पार न पाय ॥

जो यह पाठ करे मन लाई ।
ता पर होत है शम्भु सहाई ॥

ॠनियां जो कोई हो अधिकारी ।
पाठ करे सो पावन हारी ॥

पुत्र होन कर इच्छा जोई ।
निश्चय शिव प्रसाद तेहि होई ॥

पण्डित त्रयोदशी को लावे ।
ध्यान पूर्वक होम करावे ॥

त्रयोदशी व्रत करै हमेशा ।
ताके तन नहीं रहै कलेशा ॥

धूप दीप नैवेद्य चढ़ावे ।
शंकर सम्मुख पाठ सुनावे ॥

जन्म जन्म के पाप नसावे ।
अन्त धाम शिवपुर में पावे ॥

कहैं अयोध्यादास आस तुम्हारी ।
जानि सकल दुःख हरहु हमारी ॥

॥ दोहा ॥

नित्त नेम उठि प्रातः ही, पाठ करो चालीसा ।
तुम मेरी मनोकामना, पूर्ण करो जगदीश ॥

मगसिर छठि हेमन्त ॠतु, संवत चौसठ जान ।
स्तुति चालीसा शिवहि, पूर्ण कीन कल्याण ॥

प्रभु श्री रामचंद्र जी की कृपा पायें – Ram Raksha Stotra | श्री राम रक्षा स्तोत्र – एक अत्यंत शक्तिशाली स्तोत्र

विडियो

शिव चालीसा ( Shiv Chalisa in Hindi ) विडियो निचे दिया गया है. आप शिव जी की आराधना के लिए इस विडियो को देख सकतें हैं.

Shiv Chalisa

Shiv Chalisa in Hindi Lyrics

Shiv Chalisa Lyrics
Shiv Chalisa Lyrics

|| Shiv Chalisa ||

|| Doha ||

Jay Ganesh girija suvan,
Mangal mool sujaan .

Kahat ayodhyadas tum,
Dehu abhay vardan .

|| Chaupai ||

Jay Girija pati deen dayala .
Sada Karat Santan Pratipala .

Bhaal Chandrama sohat neeke .
Kaanan Kundal Nagaphani ke.

Ang Gaur Shir Gang Bahaye.
Mundmaal Tan Kshar Lagaye.

Vastra Khal Baghamber Sohe.
Chawi Ko Dekhi Naag Man Mohe.

Maina Matu Ki Hawe Dulari.
Baam Ang Sohat Chawi Nyari.

Kar Trishul Sohat Chavi Bhari.
Karat Sada Shatrun Kshaykari.

Nandi Ganesh Sohae Tanh Kaise.
Saagar Madhya Kamal Hai Jaise.

Kaartik Shyam Aur Ganrau.
Ya Chawi Ko Kahi Jaat Na Kaau.

Dewan Jabhin Jaay Pukara.
Tab Hi Dukh Prabhu Aap Niwara.

Kiya Updrav Taarak Bhari.
Dewan Sab Mili Tumhin Juhari.

Turat Shadanan Aap Pathayu.
Lawnimesh Mahn Maari Girayu.

Aap Jalandhar Asur Sanhara.
Suyash Tumhar Widit Sansara.

Tripurasur San Yuddh Machayi.
Sabhin Kripa Kar Lin Bachayi.

Kiya Taphin Bhagirath Bhari.
Purab Pratigyna Tasu Purari.

Danin Mahn Tum sam Kou Nahin.
Sewak Stuti Karat Sadahin.

Wed Maahi Mahima Tum Gayi.
Akath Anadi Bhed Nahi Paai.

Prakati Udadhi Manthan Me Jwala.
Jarat Surasur Bhaye Wihala.

Kinhi Daya Tahn kari Sahayi.
Nilkhanth Tab Naam Kahayi,

Poojan Ramchandra Jab Kinha.
Jeet Ke Lank Wibhishan Dinha.

Sahas Kamal Me Ho Rahe Dhari.
Kinha Pariksha tabhin Purari.

Ek Kamal Prabhu Rakheu Joi.
Kamal Nayan Poojan Chahn Soi.

Kathin Bhakti Dekhi Prabhu Shankar.
Bhaye Prasann Diye Ichchit var.

Jay Jay Jay Anant Awinashi.
Karat Kripa Sab Ke Ghatvasi.

Dusht Sakal Nit Mohi Satavae.
Bhramat Rahou Mohi Chain Na Aavei.

Trahi Trahi Mai Naath Pukaro.
Yehi Awsar Mohi Aan Ubaro.

Lai Trishul Shatrun Ko Maro.
Sankat Te Mohi Aan Ubaaro.

Maat- Pita Bhrata Sab Hoyi.
Sankat Me Puchat Nahi Koi.

Swami Ek Hai Aas Tumhari.
Aay Harhu Mam Sankat Bhari.

Dhan Nirdhan Ko Det Sada Hin.
Jo Koi Jaanche So Phal Paahin.

Stuti Kehi Widhi Karae Tumhari.
Kshamahu Naath Ab Chuk Hamari.

Shankar Ho Sankat Ke Naashan.
Mangal Kaaran Wighn Winashan.

Yogi Yati Muni Dhyan Lagawae.
Sharad Naarad Shish Nawawae.

Namo Namo Jay Namah Shivay.
Sur Brahmadik Paar Na paay.

Jo Yah Paath kare Man Laayi.
Ta Par Hot Hai Shambhu Sahayi.

Riniya Jo Koi Ho Adhikari.
Paath kare So Pawan Hari.

Putra Hon Kar Ichcha Joi.
Nischay Shiv Prasad Tehi Hoyi.

Pandit Tryodashi Ko Laawe.
Dhyan Purwak Hom Karawe.

Tryodashi Wrat karae Hamesha.
Take Tan Nahi Rahae Kalesha.

Dhup Deep Naiwedd Chadhawe.
Shankar Sammukh Paath Sunaawe.

Janam Janam Ke Paap Nasawe.
Ant Dhaam Shivpur Me Paawe.

Kahae Ayodhyadas Aas Tumhari.
Jaani Sakal Dukh Harhu Hamari.

|| Doha ||

Nit Nem Uthi Pratah Hi,
Paath karo Chalisa.
Tum Meri Manokaamna,
Purn Karo Jagdish.
Magsir Chhathi Hemant Ritu,
Sanwat Chaunsath jaan.
Stuti Chalisa Shivhi,
Purn Kin Kalyaan.

Bhairav Aarti : भैरव आरती : भैरव को प्रसन्न करने का महामन्त्र

ऑडियो

शिव चालीसा | Shiv Chalisa in Hindi ऑडियो निचे दिया हुआ है. आप इस ऑडियो को प्ले बटन दबाकर सुन सकतें हैं.

महादेव शिव की कृपा पाने के लिए शिव चालीसा का पाठ करें.

Shiv Chalisa in Hindi

Audio source – Soundcloud

शिव चालीसा का महत्व

शिव चालीसा
महादेव शिव
  • महादेव शिव की आराधना करने के लिए शिव चालीसा ( Shiv Chalisa in Hindi ) का पाठ एक उत्तम माध्यम है.
  • शिव चालीसा के श्रद्धापूर्वक पाठ करने से शिव शंकर की कृपा की प्राप्ति होती है.
  • महादेव शिव की आराधना के लिए शिव चालीसा का पाठ करना अत्यंत ही सरल है.
  • शिव चालीसा एक अत्यंत ही शक्तिशाली श्लोक का संग्रह है.
  • शिव चालीसा के पाठ करने से ही चारों और एक सकारात्मक उर्जा प्रवाहित होने लगती है.
  • सावन के महीने में शिव चालीसा का पाठ करना अत्यंत ही शुभ माना गया है.
  • सोमवार को भी नियमित रूप से शिव चालीसा का पाठ करना अत्यंत ही शुभ और शिव की कृपा प्रदान करने वाला माना गया है.

शिव चालीसा का पाठ कैसे करें?

shiv
  • भोले शंकर महादेव शिव की आराधना के लिए शिव चालीसा (Shiv Chalisa in Hindi ) का पाठ अवस्य करें.
  • सोमवार का दिन महादेव की आराधना के लिए सबसे उत्तम दिन माना गया है.
  • प्रत्येक सोमवार को शिव चालीसा का पाठ श्रद्धापूर्वक अवस्य करें.
  • इसके अतिरिक्त सावन के महीने को भी शिव की आराधना और स्तुति के लिए सर्वोत्तम महिना माना गया है.
  • सावन के महीने में नियमित रूप से शिव चालीसा का पाठ अवस्य करें.
  • सम्पूर्ण रूप से स्वच्छ और पवित्र होने के पश्चात ही शिव चालीसा का पाठ करें.
  • भगवान शिव की मूर्ति या तस्वीर के सामने बैठ कर आप शिव चालीसा का पाठ कर सकतें हैं.
  • शिव जी की मंदिर में जाकर शिव चालीसा का पाठ करना और भी उत्तम होता है.
  • महादेव शिव की पूजा अर्चना और गंगाजल से अभिषेक करने के पश्चात शिव चालीसा का पाठ करना और भी उत्तम होता है.

Benefits of Shiv Chalisa शिव चालीसा के पाठ से लाभ

bhole shankar

सबसे पहले मैं एक बात शिव जी के भक्तों से कहना चाहता हूँ. भगवान शिव तो आशुतोष हैं. वे कब किस पर किस विधि से प्रसन्न हो जायेंगे यह कोई बिद्वान भी नहीं बता सकता है.

शिव चालीसा के पाठ से क्या क्या लाभ होता है? इस सवाल का जवाब कोई महान शिव भक्त भी नहीं दे सकता है.

मैं तुच्छ सा शिव भक्त क्या आप लोगों को बताऊंगा. मैं आज जो भी हूँ महादेव शिव की कृपा से ही हूँ. जय महादेव.

फिर भी इस पोस्ट के लिए मैं कुछ बातें निचे लिख रहा हूँ.

  • शिव चालीसा के पाठ से महादेव शिव की कृपा की प्राप्ति होती है.
  • श्री शिव चालीसा के पाठ से मन को आत्मिक शांति की प्राप्ति होती है.
  • मन में आत्मबिस्वास की बृद्धि होती है.
  • ऐसा लगता है की शिव जी मेरे साथ हैं और आपकी सहायता कर रहें हैं.

Shiv Chalisa in Hindi PDF

shiv chalisa pdf

शिव जी की स्तुति और आराधना के लिए अगर आप शिव चालीसा को हिंदी पीडीऍफ़ ( Shiv Chalisa in Hindi PDF ) में डाउनलोड करके रखना चाहतें हैं. तो आप निचे दिए गए हमारे पोस्ट के लिंक पर क्लीक अक्रें.

इससे आपके सामने शिव चालीसा हिंदी पीडीऍफ़ वाला पोस्ट खुल जाएगा. जहाँ आप लोगों के लिए शिव चालीसा हिंदी पीडीऍफ़ दिया हुआ है.

आप इस पोस्ट से शिव चालीसा हिंदी पीडीऍफ़ को डाउनलोड बटन पर क्लीक करके डाउनलोड कर सकतें हैं.

इसमें आपको किसी भी प्रकार की कोई परेशानी नहीं होगी.

आप इस पीडीऍफ़ को सीधे प्रिंट भी करना चाहें तो कर सकतें हैं.

शिव भक्तों से निवेदन

jai  bholenath
ॐ नमः शिवाय

मैं भी एक शिव भक्त हूँ. प्रत्येक सावन के महीने में मैं काँवर यात्रा करता हूँ और शिव की भक्ति रोजाना करता हूँ.

आप सबसे नम्र निवेदन है की कृपया सम्पूर्ण श्रद्धा और भक्ति के साथ शिव जी की आराधना और स्तुति करें.

जीवन में छल कपट आदि से दूर रहें. सादा और सरल जीवन व्यतीत करें.

ह्रदय को स्वच्छ और पवित्र रखें. शिव जी की कृपा अवस्य ही आप सब पर होगी.

और एक बात मेरा ऐसा मानना है की शिव जी की आराधना और स्तुति के लिए कोई भी चालीसा, मंत्र विधि विधान की आवश्यकता नहीं है. अगर आप दिल से शिव को आराधना और स्तुति करतें हैं तो अगर आप शिव शिव नाम का जाप ही कर लें या हो सके तो ॐ नमः शिवाय का जाप करें तो भी आपको शिव की कृपा अवस्य प्राप्त होगी.

भगवान शिव शंकर महादेव आप सब शिव भक्तों की समस्त शुभ मनोकामनाओं को पूर्ण करें. जय शिव शंकर. ॐ नमः शिवाय….

FAQ

शिव चालीसा के पाठ के लिए कौन सा दिन सबसे उत्तम माना गया है?

महादेव शिव की आराधना के लिए शिव चालीसा का अगर आप पाठ करते हैं तो सोमवार का दिन सबसे उत्तम माना गया है.
वैसे आप किसी भी दिन श्री शिव चालीसा का पाठ कर सकतें हैं.

श्री शिव चालीसा के पाठ के लिए कौन सा महिना सबसे उत्तम माना गया है?

श्रावन महीने को महादेव शिव की आराधना और स्तुति के लिए सर्वोत्तम मास माना गया है.
श्रावण महीने में शिव की आरधना करना अत्यंत ही शुभ और मंगलकारी होता है.
इस महीने में शिव चालीसा का भक्तिपूर्वक पाठ करना बहुत ही शुभ माना गया है.

कुछ अन्य प्रकाशनों की सूचि निचे दी गयी है.

Shri Ram Chalisa | श्री राम चालीसा 

Baglamukhi Chalisa – संकटों | शत्रुओं से रक्षा करती है माँ बगलामुखी चालीसा का पाठ

Annapurna Chalisa | अन्नपूर्णा चालीसा

Sampoorna Sunderkand Path सम्पूर्ण सुन्दरकाण्ड पाठ

Leave a Comment