hanumanchalisa hindi:hanuman chalisa,hanuman mantra

WWW.HANUMANCHALISA-HINDI.COM PROVIDES ALL THE CHALISA,MANTRA AND SHLOK RELATED TO LORD HANUMAN WITH VIDEO AND MP3 DOWNLOAD LINK.

Shri Ram Stuti :श्री राम -स्तुति

Shri Ram Avtar Stuti



श्री रामावतार-स्तुति 

SHRI RAM STUTI,SHRI RAM AWTAR STUTI
JAY SHRIRAM

bhaye pragat kripala

भए प्रगट कृपाला 

Ram janam stuti

राम जन्म स्तुति 

                            छन्द
भए प्रगट कृपाला दीनदयाला कौशिल्या हितकारी |
हरषित महतारी मुनि मन हारी अद्भुत रूप विचारी ||
लोचन अभिरामा तनु घनश्यामा निज आयुध भुजचारी |
भूषण बनमाला नयन बिशाला सोभासिंधु खरारी ||
कह दुइ कर जोरी अस्तुति तोरी केहि बिधि करौं अनंता |
माया गुन ज्ञानातीत अमाना वेद पुरान भनंता ||
करुना सुख सागर सब गुन आगर जेहि गावहिं श्रुति संता |
सो मम हित लागी जन अनुरागी प्रगट भयउ श्रीकंता ||
ब्रह्मांड निकाया निर्मित माया रोम-रोम प्रति वेद कहै |
सो मम उर बासी यह उपहासी सुनत धीर मति थिर न रहै ||
उपजा जब ज्ञाना प्रभु मुसुकाना चरित बहुत बिधि कीन्ह चहै |
कहि कथा सुहाई मातु बुझाई जेहि प्रकार सुत प्रेम लहै |
माता पुनि बोली सो मति डोली तजहु तात यह रूपा |
कीजै सिसु लीला अति प्रियशिला यह सुख परम अनूपा ||
सुनि बचन सुजाना रोदन ठाना होइ बालक सुर भूपा |
यह चरित जे गावहिं हरिपद पावहिं ते न परहिं भवकूपा ||

                                  दोहा 
विप्र धेनु सुर संत हित,लीन्ह मनुज अवतार |
निज इच्छा निर्मित तनु,माया गुन गो पार ||

                           श्री रामावतार-स्तुति समाप्त 




SHRI RAM STUTI,BHAYE PRAGAT KRIPALA
SHRIRAM


Shri Ram Stuti

श्रीराम-स्तुति 

श्रीरामचंद्र कृपालु भजु मन,हरण भव भयदारुणम्|
नवकंज-लोचन,कंज-मुख कर-कंजपद कंजारुणम्||
कंदर्प अगणित अमित छवि नवनील-नीरद-सुन्दरम्|
पटपीत मानहु तड़ित रूचि शुचि नौमि जनक-सुतावरम्||
भजु दीनबंधु दिनेश दानव-दैत्यवंश-निकंदनम्|
रघुनन्द आनन्दकन्द कौशलचन्द्र दशरथ-नन्दनम्||
सिर मुकुट कुंडल तिलक चारू उदार अंग विभूषणम्|
आजानु भुज शर-चाप-धर संग्राम-जित-खरदूषणम्||
इति वदति तुलसीदास शंकर-शेष-मुनि-मन रंजनम्|
मम ह्रदय-कंज-निवास कुरु कामादि खल-दल-गंजनम्||
मनु जाहिं राचेउ मिलहि सो वर सहज सुंदर साँवरो|
करुणा निधान सुजान शील सनेह जानत रावरो||
एहि भाँति गौरि अशीश सुनि सिय सहित हिय हर्षित अली|
तुलसी भवानिहिं पूजि पुनि-पुनि मुदित मन मंदिर चली||

                                  सोरठा 

जानि गौरि अनुकूल,सिय हिय हर्ष न जात कहि|
मंजुल मंगल मूल,बाम अंग फरकन लगे||


                              श्रीराम-स्तुति समाप्त 



अगर आपको यह राम स्तुति पसंद आई है तो कृपया इसे शेयर करें|अगर आप कोई सुझाव देना चाहतें हैं तो कृपया कमेंट बॉक्स में लिखे|

हमारे और दुसरे श्लोक और चालीसा निम्न है आप क्लिक कर सीधे उस पेज पर जा सकते हैं|
हनुमान चालीसा
हनुमानाष्टक

बजरंग बाण

अगर आप भगवान् श्रीराम और हनुमानजी से सम्बंधित कोई सामग्री जैसे की किताब या लोकेट या कोई और वस्तु तो निचे JAY SHRIRAM लिंक पर क्लीक कर सीधे amazon से खरीद सकतें हैं|

JAY SHRIRAM