Hanuman Chalisa Hindi

Hanuman Chalisa Hindi pdf download with beautiful Hanumn Images

Hanuman Vadvanal Stotra हनुमद्-वडवानल-स्तोत्रम् : Download

Hanuman Vadvanal Stotra Benefits



हनुमद्-वडवानल-स्तोत्रम् के जाप के लाभ :

lord hanuman
hanuman ji 

हनुमद वडवानल स्तोत्रम् सर्वसिद्धिप्रदायक है|इसके जाप करनेवाले पर भगवान् हनुमानजी की कृपा और वरद्हस्त रहती है|राम भक्त हनुमान सदा अपने भक्तों पर अपनी कृपा दृष्टी बनाये रखते हैं|हनुमान वडवानल स्तोत्रम् के पाठ से मनुष्य की सभी कामनाएँ शीघ्र ही पूर्ण होती है|इस मंत्र के जाप से साधक पर हनुमानजी की कृपा हमेशा बनी रहती है.इस स्तोत्रम् के जाप करने वाले की हनुमानजी सभी संकटों से रक्षा करतें हैं.इस स्तोत्रम् का जाप सभी मनुष्यों को अवश्य करना चाहिए जिससे उन पर राम भक्त भगवान् हनुमानजी की कृपा सदा बनी रहें|




Hanuman vadvanal stotra

 हनुमद्-वडवानल-स्तोत्रम्

hanuman mantra
bajrangbali

संकल्प :- ॐ अस्य श्रीहनुमद्-वडवानलस्तोत्र-मंत्रस्य श्रीरामचन्द्र ॠषिः,श्रीवडवानलहनुमान् देवता,मम समस्त-रोग-प्रशमनार्थम् आयुरारोग्यैैश्रर्व्याभिवृद्धयर्थं समस्त-पापक्षयार्थं श्रीसितारामचन्द्रप्रीत्यर्थं च हनुमद्वडवानलस्तोत्रजपमहं करिष्ये |

सर्वप्रथम हाथ में जल लेकर उपरोक्त मंत्र से संकल्प लेकर जल के छोड़ें|

उसके पश्चात् हाथ में पुष्प लेकर ध्यान करते हुए ध्यानम् मन्त्र का पाठ करें और उसके पश्चात् सम्पूर्ण वडवानल स्तोत्र का पाठ करें|

ध्यानम् :- मनोजवं मारुत-तुल्य-वेगं जितेन्द्रियंं बुद्धिमतां वरिष्ठम् |
                वातात्मजं वारनयूथ-मुख्यं श्रीरामदूतं शरणं प्रपद्धे ||

ॐ ह्रांं ह्रीं ॐ नमो भगवते श्रीमहाहनुमते प्रकटपराक्रम सकलदिङ्मण्डल-यशोवितान-धवलीकृत-जगत्-त्रितय-वज्रदेह रुद्रावतार-लंकापुरीदहन उमा-अर्गलमन्त्र-उदधिबन्धन दशशिरः-कृतान्तक सीताश्र्व्सन वायुपुत्र-अञ्जजिगर्भसम्भूत श्रीरामलक्ष्मणा-नन्दकर कपिसैन्यप्राकार सुग्रीवसह्यरण-पर्वतोत्पाटन कुमार-ब्रह्म्चारिन् गभीरनादसर्व-पापग्रहवारण-सर्वज्वरोच्चाटन डाकिनी-विध्वंसन ॐ ह्रांं ह्रीं ॐ नमो भगवते महावीरवीराय सर्वदुःख-निवारणाय ग्रहमण्डल-सर्वभूत-मण्डल-सर्वपिशाचमण्ड-लोच्चाटन-भूतज्वर-एकाहिकज्वर-द्व्याहिकज्वर-त्र्याहिकज्वर-चातुर्थिकज्वर-सन्तापज्वर-विषमज्वर-तापज्वर-माहेश्वर-वैष्णव-ज्वारान् छिन्धि छिन्धि यक्ष-ब्रह्मराक्षस-भूत-प्रेत-पिशाचान् उच्चाटय उच्चाटय |
ॐ ह्रांं श्रीं ॐ नमो भगवते श्रीमहाहनुमते ॐ ह्रांं ह्रीं ह्रूं ह्रैैं ह्रौंं ह्र:
आं हां हां हां हां ॐ सौं एहि एहि एहि ॐ हं ॐ हं ॐ हं ॐ नमो भगवते श्रीमहाहनुमते श्रवणचक्षुर्भूूतानांं शाकिनी-डाकिनीनां विषमदुष्टानांं सर्व विषंं हर हर आकाशभुवनं भेदय भेदय  छेदय छेदय मारय मारय शोषय शोषय मोहय मोहय ज्वालय ज्वालय प्रहारय प्रहारय शकलमायां भेदय भेदय |
ॐ ह्रांं ह्रीं ॐ नमो भगवते महाहनुमते सर्वग्रहोच्चाटन परबलं क्षोभय क्षोभय सकलबन्धनमोक्षणंं कुरु शिरः शूल-गूल्मशूल-सर्वशूलात्रिर्मूलय निर्मूलय नागपाशानन्त-वासुकि-तक्षक-कर्कोट-कालियान् यक्षकुलजगत-रात्रिञ्चर-दिवाचर-सर्पात्रिर्व्रिषं कुरू कुरू स्वाहा |
राजभय-चोरभय-परमन्त्र-परयन्त्र-परतन्त्र-परविद्धाश्छेदय छेदय स्वमन्त्र-स्वयन्त्र-स्वतन्त्रकाविद्धाः प्रकटय प्रकटय सर्वारिश्टात्राशय नाशय सर्वशत्रूत्राशय नाशय असाध्यं साधय साधय हुुँ फट् स्वाहा |

इति विभीषणकृतं हनुमद्-वडवानलस्तोत्रं संपूर्णम |




Hanuman vadvanal stotra audio